नूर-ए-ख़ुदा…

 

IMG_0039-2.jpg

अजनबी मोड़ है, खौफ हर ओर है
 हर नज़र पे धुआं छा गया
 पल भर में जाने क्या खो गया
 आसमां ज़र्द है, आहें भी सर्द है

तन से साया जुदा हो गया
 पल भर में जाने क्या खो गया
 सांस रुक सी गयी, जिस्म छिल सा गया

टूटे ख़्वाबों के मंज़र पे तेरा जहां चल दिया
नूर-ए-ख़ुदा , नूर-ए-ख़ुदा
तू कहाँ छुपा है हमें ये बता
नूर-ए-ख़ुदा , नूर-ए-ख़ुदा
यूँ ना हमसे नज़रें फिरा

उजड़े से लम्हों को आस तेरी
ज़ख़्मी दिलों को है प्यास तेरी
हर धड़कन को तलाश तेरी
तेरा मिलता नहीं है पता

खाली आँखें खुद से सवाल करे
अमन की चीख बेहाल करे
बहता लहू फ़रियाद करे
तेरा मिटता चला है निशाँ
रूह जम सी गयी
वक़्त थम सा गया
टूटे ख़्वाबों के मंज़र पे तेरा जहां चल दिया

नूर-ए-ख़ुदा , नूर-ए-ख़ुदा
तू कहाँ छुपा है हमें ये बता
नूर-ए-ख़ुदा , नूर-ए-ख़ुदा
यूँ ना हमसे नज़रें फिरा

(Lyrics by Niranjan Iyengar, from the film My Name is Khan)